माटुंगा रेलवे स्टेसन का सच जो लिम्का बुक ऑफ़ वर्ल्ड में हुआ रिकॉर्ड/THE TRUTH BEHIND MATUNGA RAIILWAY STATION IN 2023

Rate this post

लेखक:मोनू शर्मा

भारत में आदि काल से महिलाओ को कमजोर समझा जाता रहां है| हमेसा से महिलाओ को निचे रखने की कोसिस की गई है हमारे समाज में लेकिन आज का दौर कुछ अलग है हमारा देश अब बदल रहा है| हमारे देश की महिलाए भारत को ही नहीं बल्कि पुरे विश्व में अपना और भारत का नाम रौशन कर रही है| आज हमलोग माटुंगा रेलवे स्टेसन का सच जो लिम्का बुक ऑफ़ वर्ल्ड में हुआ रिकॉर्ड/THE TRUTH BEHIND MATUNGA RAIILWAY STATION IN 2021 के बारे में जानेगे| किस तरह भारत की महिलाओ ने हमारे देश को नै उंचाई तकज पहुचने की पहल की है|

माटुंगा रेलवे स्टेसन का सच जो लिम्का बुक ऑफ़ वर्ल्ड में हुआ रिकॉर्ड/THE TRUTH BEHIND MATUNGA RAIILWAY STATION IN 2021

माटुंगा रेलवे स्टेशन – भारत देश की महिलाएं अपनी योग्यता और दृढ इच्छा शक्ति  के बल पर न सिर्फ भारत का बल्कि पूरी दुनिया में अपना ओर हमारे देश का नाम रोशन कर रही है.बीते कुछ वर्षो में समय दर समय महिलाओं के पक्ष में कई कानूनों में संशोधन किया गया है हमारे देश के उच्चतम न्ययालय और तत्कालीन सरकार द्वारा, साथ ही साथ रेलवे और सेना में भी कई तरह के विभागों में भी महिलाओं का योगदान काफी सराहनीय रहा है|

नेवी में महिला ऑफिसरो ने दुनिया के कई समुद्रो की परिक्रमा कर चुकी है,और देश की कई महिलाए दुनिया को नापने की राह पर आगे बढ़ रही है| वहीं दूसरी तरफ भारतीय वायु सेना में भी पहली महिला फाइटर पायलट ने अपनी और कुशलता को बरे बरे ऑफिसर्स और नेता गानों के सामने अपनी योग्यता दर्ज कराने में सफल हुई है|आज हम जिन महिलाओं की बात कर रहे हैं उनके कार्यो के बदोलत मुंबई शहर के एक रेलवे स्टेशन का नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज हुआ है| जो  पूरे देशवासियों के लिए गौरव करने वाली बात है|

ये भी पढ़े :

Sant Guru Rabidas Jayanti History

Who Is Udapi Ramachnadran Rao?

Biography Of Swami Dayanand Sarswati

भारत के महिलाओं ने और भारत रेल ने मिलकर ऐसा कौन से कार्यों को अंजाम दिया, जिस कारन लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में भारत देश के इस स्टेशन का नाम दर्ज हुआ है| माटुंगा रेलवे स्टेसन जो मुंबई शहर में स्थित है जानते है, भारत के इस रेलवे स्टेशन की चर्चा पूरे विश्व में क्यों हो रही है? अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर माटुंगा रेलवे स्टेशन में ऐसी क्या खासियत है कि इस जगह को लिम्का बुक ऑफ़ रिकार्ड में स्थान मिला ?

आइये जानते है की या क्या है MATUNGA RAIILWAY STATION में जिसके कारन हमारे देश का नाम रोशन हुआ है|

दरअसल मुंबई जो की सेंट्रल रेलवे जोन है भरतीय रेल की उनके तरफ से एक अनोखी पहल की गई जिसके तहत मुंबई के माटुंगा रेलवे स्टेशन पर मौजूद जितने भी कर्मचारी होंगे  वे सभी के सभी महिलाएं होंगी. यानी कि माटुंगा रेलवे स्टेशन पर एक भी पुरुष कर्मचारी नहीं होंगे| और इस चीज को अमल में लाने के लिए माटुंगा स्टेसन को चुना गया | इस स्टेसन में काम करने वाले कर्मचारियों की कुल संख्या 41 है, और  ये सभी महिलाएं पूरे स्टेशन को परिचालित करती है |

इन महिलाओं में से 8 महिला टिकट चेकिंग का कार्य करती है, 6 रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स के तहत तैनात की गई है,17 महिलाएं ऑपरेशन विभाग को संभालती है (अर्थात स्टेसन मास्टर और टेक्निकल काम हेतु), साथ ही घोषणा हेतु(ANOUNCER) के तौर पर 2 महिला और 2 संरक्षण स्टाफ के साथ-साथ 5 और महिलाओं को कई कई जगहों पर कार्यभार सौंपा गया है|

आपको और हमसबको यह जानकर खुसी होगी की माटुंगा रेलवे स्टेशन की स्टेसन मास्टर (मैनेजर) भी एक महिला है जिनका नाम ममता कुलकर्णी है|  आप सभी पाठको को यह साझा करते हुए हे खुसी हो रही है की ममता कुलकर्णी वो पहली महिला है जिन्होंने साल 1992 में रेलवे विभाग में असिस्टेंट मैनेजर के तौर पर कार्यभार संभाला था. उन दिनों कुलकर्णी मुंबई सेंट्रल रेलवे डिवीजन में कार्यरत हुई थीं. अब मुंबई के ‘माटुंगा’ रेलवे स्टेशन के परिचालन का कार्यभार भली भाती संभाल रही हैं|

माटुंगा रेलवे स्टेसन का सच जो लिम्का बुक ऑफ़ वर्ल्ड में हुआ रिकॉर्ड/THE TRUTH BEHIND MATUNGA RAIILWAY STATION IN 2021

माटुंगा रेलवे स्टेशन – भारतीय रेलवे के द्वारा किए गए इस पहल ने महिलाओं को और भी सशक्त बनाने का काम किया है. साथ ही महिलाओं के द्वारा किए गए इस अनोखे कार्यों की बदौलत मुंबई के ‘माटुंगा’ रेलवे स्टेशन को गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड में स्थान भी मिल गया. ये ना सिर्फ देश  के लोगो के लिए खुसी की बात है बल्कि पुरे विश्भव में विख्यात भारतीय के लिए बेहद ख़ुशी का मौका है| देश की सशक्त महिलाओं को और भी सशक्त होने का हौसला मिलेगा | हमारे देश में महिला दिवस (Womens Day) के मौके पर ममता कुलकर्णी जैसे महिलाओ को पुरष्कृत करने के साथ साथ देश को समोधित करने की भी जरुरत है ताकि देश के बाकि महिलाओ को ऐसे कार्य के प्रति उत्साह पैदा हो|

तो ये थी माटुंगा रेलवे स्टेसन का सच जो लिम्का बुक ऑफ़ वर्ल्ड में हुआ रिकॉर्ड/THE TRUTH BEHIND MATUNGA RAIILWAY STATION IN 2021 जिसके बारे में हम अपने पाठक के साथ जानकारी इस पोस्ट में साझा किये है|

अगर आपको हमारे पोस्ट अच्छा लगा क्यों कृपया इसे फेसबुक इंस्टाग्राम टि्वटर लिंकडइन व्हाट्सएप में शेयर जरूर करें एवं अगर आप किसी प्रकार का सुझाव हमें देना चाहते हैं तो कमेंट बॉक्स में कमेंट जरुर करें

यदि आप hindimetrnd.in के साथ जुड़ना चाहते हैं तो कृपया हमारे फेसबुक पेज को लाइक करना ना भूलें hindimetrnd/facebookpage

धन्यवाद

ये भी पढ़े:ये भी पढ़े:

National girl child day.

History of valentine day in hindi 2021

Leave a Comment