HOLIKA DAHAN HISTORY AND WISHES/ होलिका दहन या छोटी होली क्यों मनाया जाता है?जाने पूरी विधि की सच्चाई

Rate this post

लेखक:मोनू शर्मा राय

होलिका दहन-आज हमलोग इस पोस्ट में जानेगे की  होलिका दहन या छोटी होली क्यों मनाया जाता है?जाने पूरी विधि की सच्चाई (28 MARCH 2021 HOLIKA DAHAN HISTORY AND WISHES) में हमलोग पूजा की विधि से लेकर उसकी पूरी जानकारी हम अपने पाठको के साथ साझा करेंगे और उन्हें पूरी जानकारी देनें की कोशिश करेंगे | ताकि हमारे पाठको को पूरी जानकारी मिले| इस वर्ष होली का त्यौहार 27 मार्च विश्व रंगमंच दिवस के दो दिन बाद 29 मार्च को है|

28 MARCH 2021 HOLIKA DAHAN HISTORY AND WISHES/ होलिका दहन या छोटी होली क्यों मनाया जाता है?जाने पूरी विधि की सच्चाई

 होलिका दहन क्यों मनाया जाता है:

महापुरानो के अनुसार महाराज हिरनकश्यप का एक पुत्र था जिसका नाम प्रहलाद था| वह भगवान विष्णु का बहुत बार भक्त था| परन्तु रजा हिरनकश्यप भगवानो से नफरत करते थे, अतः उन्हें बिलकुल पसंद नहीं था की कोई उनके घर में भगवान को माने,चुकी उसे ब्रह्मा भ्ग्वान से वरदान मिला था| उन्हें भगवान ब्रह्मा  की घोर तपस्या की और भगवान को प्रसन्न क्र के उनसे वरदान की प्राप्ति की|
भगवान ब्रह्मा ने उन्हें वरदान दिया था की हिरनकश्यप को कोई मार नही सकता | न हीं उन्हें कोई सुबह मार सकता है,न हीं रात में| न उसे कोई अस्त्र से मार सकता है और न ही कोई शस्त्र से| न ही उसे कोई भगवान मर सकता है न ही कोई दानव, न ही उनकी मृत्यु प्रलय से हो सकती है न ही कोई जानवर से|
अतः इसी बात का उसे घमंड था और वो खुद को भगवान से भी ऊपर समझते थे अतः  उसे पसंद नही था की कोई उनके घर में किसी भगवान की पूजा करे| अपने बेटे से भगवान विष्णु का भक्ति हटाने हेतु हिरनकश्यप ने अपने पुत्र पर तरह तरह की यातनाए करनी शुरू किया|  अतः साड़ी यातनाए सहने के बाद भी जब उनका पुत्र नहीं माना और भगवान विष्णु का नाम जपते रहे तब रजा हिरनकश्यपने अपनी बहन होलिका को अपने पुत्र को सौप दिया|
होलिका के पास भी वरदान था,उसे एसा वरदान प्राप्त था की उसेअग्नि कुछ नहींकर सकता अर्थात वो अग्नि से नहीं जल सकती| अतः होलिका अपने भाई के पुत्र प्रहलाद को जलाने हेतु उसे अपनी गोद में लेकर जलती हुई अग्नि में बैठ गई| लेकिन भगवान विष्णु की कृपा भक्त प्रहलाद पर थी,वह जब अग्नि में प्रवेश किया तबी भी भगवान विष्णु का जाप करते रहे| अंत में ये हुआ कली भक्त प्रहलाद ज्यो के त्यों बच गए और होलिका अग्नि में जलकर भष्म हो गई| इस प्रकार होली का त्यौहार बुराई पर अच्छाई और सच्चाई की जित को दर्शाता है|
ये भी पढ़े:

होलिका दहन का सुभ महूर्त:

बाबा श्याम  के ग्यारस के कुछ दिनों बाद 29 मार्च 2021 को होली का त्योहार है, परन्तु  इसके पहले 28 मार्च को होलाष्टक खत्म होने के साथ होलिका दहन किया जाता है । पूर्णिमा तिथि के अनुसार  28 मार्च 2021 रविवार के दिन की रात में या यु कहे तो संया/सांझ के वक्त होलिका दहन मनाया जाता है ।
भद्रा दिन 1 बजकर 33 बजे समाप्त हो जाएगा । साथ ही पूर्णिमा की तिथि रात्रि  12:40 तक ही रहेगी। शाश्त्रो के अनुसार  भद्रा रहित पूर्णिमा की  तिथि में ही होलिका दहन किया जाएगा , इस कारण रात में 12:30 बजे से पहले ही  होलिका दहन की समाप्ति हो जानि चाहिए। क्योंकि रात में 12:30 बजे के बाद हिन्दू शास्त्रार्थ के अनुसार प्रतिपदा तिथि लग जाएगी।
भारतीय हिन्दू  पंचांग के अनुसार होलिका दहन का मुहूर्त 28 मार्च को शाम 6  बजकर 37 मिनट से रात्रि 10 बजकर 56 मिनट तक रहेगा यानि 02 घंटे 20 मिनट तब होलिका दहन का मुहूर्त रहेगा। इसी मुहूर्त में होलिका दहन मनाना अत्यंत शुभ मना जाएगा  है। इस साल होलिका दहन के समय भाद्र का महिना नहीं रहेग|

होलिका दहन की सुभकामनाए:

स्वीट-स्वीट सी रहे आपको बोली
खुशियां ही खुशियां हो आपकी झोली,
मेरी तरफ से मुबारक हो आपको छोटी होली
होलिका दहन की हार्दिक सुभकामनाए
Happy Holika Dahan 2021
जिस तरह होलिका
जलकर हो गई थी राख,
उसी तरह आपके मिट जाएं
आपके सारे कष्ट और पाप,
हैप्‍पी होलिका दहन 2021
अच्‍छाई की जीत हुई है,
हार गई आज बुराई है,
देखो होलिका दहन की,
शुभ घड़ी आज आयी है,
होलिका दहन की शुभकामनाएं
निकलो गलियों में बना कर टोली,
भिगा दो आज हर एक की झोली,
कोई मुस्कुरा दे तो उसे गले लगा लो,
वरना निकल लो, लगा के रंग कह के हैप्पी छोटी होली।
सब रंगो को मिला कर पानी में,
सतरंगी नदियां बहाई है।
कर देंगे सबके चेहरों को लाल,
होली की ऐसी खुमारी छाई है।
लगा दो रंग आज कोई बचके ना जा पाए,
क्योंकि सबसे सतरंगी होली आई है।

अंग्रेजी में जाने होलिका दहन की सुभकामनाए:

Mix all the colors in water,
Seven rivers flow.
Will make everyone’s faces red,
Holi is such a hangover.
Apply two colors, no one can be saved today
Because the most colorful Holi has come.
Get out in the streets, make a team,
Get rid of everyone’s bag today,
If someone smiles, give it a hug,
Otherwise, come out and say, ‘Happy little Holi’ by saying colors.
Good has won
Lost is evil today,
Look at Holika Dahan,
Auspicious moment has come today,
Happy Holika Dahan
By the way holika
Was burnt to ashes,
In the same way you disappear
All your sufferings and sins,
Happy Holika Dahan 2021
Bid you stay sweet-sweet
Happiness is happiness, your bag
Happy little holi from my side
Happy Holika Dahan
Happy Holika Dahan 2021

होलिका दहन की पूजन विधि:

होलिका दहन जिस स्थान पर किया जाएगा उस स्थान को पहले गंगा जल या सुद्ध पानी से धो ले| यह कार्य करने के बाद वह गोबर के सूखे उपले,घांस,और सुखी लकरी रखे|  यह कार्य और समान इकठ्ठा होने के बाद सपरिवार पूर्व दिसा के तरफ मुह करके बैठ जाए| अगर आप चाहे तो सूखे गे के गोबर से भक्त प्रहलाद और होलिका का चित्र बना सकते है| यह करने के पश्चात् भगवान नरसिंह किपुजा अर्चना करे|
पूजन के वक्त लोटा में पानी,माला,चावल,रोली,और सात प्रकार के अनाज के साथ फुल कच्चा सूत,गुर,हल्दी बतासे,गुलाल होली पर बनने वाले अप्क्वान और नारियल रखे| साथ में नइ फसले भी रखी जाती है| जैसे गेहू की बलिया| कच्चे सूत को तिन या सैट बार परिक्रमा कर क्र बांधे,और अंत में सभी समग्रीयो को होलिका दहन की अग्नि में अर्पित करे| यह मन्त्र का जाप करे: अहकुटा भय्त्रस्ते: कृता त्व होली बालिशे: कई लोगो की तरह आप भी पूजन के पश्चात् अग्नि के अस्थियो को घर के विभिन्न जगह पर रख सकते है|

होली से होने वाले कुछ बीमारी:

यूँ तो होली क खुसी का दिन है| लेकिन बच्चे और बरो को कुछ साब्धानिया बरतनी परती है| कुछ बच्चो को ज्यादा होली और रंगों से खेलने से स्किन पे प्रभाव परता है,और उन्हें एलर्जी भी हो सकती है| ज्यादा पानी से खेलने पर बच्चो को सर्दी लग सकती है| और बारे बुजुर्गो को भी सर्दी खांसी का सामना करना पर सकता है पानी से खेलने के कारन|
किसी किसी के स्किन काफी सवेदनशील होती है अतः उन्हें अपने सेहत का ध्यान रखते हुए होली के रंगों से दूर रहना चैये क्युकी उन्हें एलर्जी का सामना करना पर सकता है|
होलिका दहन या छोटी होली क्यों मनाया जाता है?जाने पूरी विधि की सच्चाई(28 MARCH 2021 HOLIKA DAHAN HISTORY AND WISHES) में हमने अपने पाठको के लिए साडी जानकारी देने की कोशिश की है,ताकि आप सभी पाठक गन को किसी भी तरह का अर्तिक्ल में जाने की जरुरत न हो|

अगर आपको हमारा यह पोस्ट अच्छा लगा तो कृपया इसे facebook,instagram twiter linkdin whatsapp में शेयर जरुर करे एवं यदि आप किसी प्रकार का सुझाव हमें देना चाहते है तो हमे कमेन्ट बॉक्स में कमेन्ट जरुर करे |

यदि आप hindimetrnd.in के साथ जुरना चाहते है तो कृपया हमारे फेसबुक पेज को लाइक करना न भूले hindimetrnd/facebookpage 

Leave a Comment